तेज कदमों से चलने से हार्ट के मरीजों को हो सकता है फायदा

By: एबीपी न्यूज़
Updated: 23 Apr 2018 06:33 PM

नई दिल्लीः अगर आप या आपके घर में कोई हार्ट का मरीज है तो उन्हें तेज कदमों से चलना चाहिए. इससे आपका हार्ट हेल्दी रहेगा. हाल ही में आई एक रिसर्च भी कुछ यही कहती है.


क्या कहती है रिसर्च-
रिसर्च के मुताबिक, आपके चलने की गति आपकी सेहत के लिए फायदेमंद हो सकती है. रिसर्च में पाया गया कि हार्ट के मरीज यदि तेज चलते हैं तो उन्हें अस्पताल जाने से बचाया जा सकता है.


क्या कहते हैं शोधकर्ता-
इटली की यूनिवर्सिटी ऑफ फरेरा की लेखिका कार्लोटा मेरलो का कहना है कि तेज चलने से अस्पताल में भर्ती होने और वहां लंबे समय तक रहने की स्थिति का जोखिम कम होता है.


कैसे की गई रिसर्च-
रिसर्च में 1,078 हाई ब्लोड प्रेशर से ग्रस्त रोगियों को शामिल किया गया था, जिनमें से 85 फीसदी को हार्ट डिजीज और 15 फीसदी को वाल्व रोग था.


रिसर्च के नतीजे-
रिसर्च में पाया गया कि कम चलने की गति बताती है कि आपकी शारीरिक रूप से बहुत सक्रिय नहीं है. रिसर्च में कुल 359 रोगियों की धीमी गति से चलने वालों, 362 की मध्यम और 357 की तेज गति से चलने वालों के रूप में पहचान की गई.


रिसर्च में पाया गया कि धीमी गति से चलने वालों की तुलना में तेजी से चलने वालों को तीन साल में अस्पताल में भर्ती होने की 37 फीसदी कम संभावना देखी गई.


क्या कहते हैं एक्सपर्ट-
मेरलो ने कहा कि चहलकदमी वयस्कों में व्यायाम का सबसे लोकप्रिय प्रकार है. यह निशुल्क और बिनी विशेष प्रशिक्षण के लगभग कहीं भी किया जा सकता है. यहां तक कि छोटे अंतराल में, लेकिन नियमित चहलकदमी के काफी लाभ हैं. हमारी रिसर्च से पता चलता है कि चलने की गति में तेजी आने पर यह लाभ अधिक हो जाते हैं.


ये रिसर्च के दावे पर हैं. ABP न्यूज़ इसकी पुष्टि नहीं करता. आप किसी भी सुझाव पर अमल या इलाज शुरू करने से पहले अपने एक्सपर्ट की सलाह जरूर ले लें.

World Cup 2019

ABP Ganga

दिल्ली पुलिस ने जारी की एडवाइजरी

New post added in sports-

उरी: सर्जिकल स्ट्राइक स्टार विक्की कौशल इस तरह सेलिब्रेट करेंगे अपना 31 बर्थडे

Sports test postt-

अली जफर के वेब शो में सलमान खान करेंगे डिजिटल में एंट्री

पीएम का जयापुर कितना बदला है, एबीपी गंगा की रिपोर्ट

पीएम मोदी के गोद लिये गांव जयापुर का हाल क्या है। एबीपी गंगा ने एक रिपोर्ट तैयार की है। विकास कार्य नहीं हुए ऐसा नहीं कहा जा सकता लेकिन अभी भी स्वास्थ और पीने का पानी को लेकर काफी काम किया जाना बाकी है।

पीएम मोदी के गोद लिये गांव जयापुर का हाल क्या है। एबीपी गंगा ने एक रिपोर्ट तैयार की है। विकास कार्य नहीं हुए ऐसा नहीं कहा जा सकता लेकिन अभी भी स्वास्थ और पीने का पानी को लेकर काफी काम किया जाना बाकी है।

पीएम का जयापुर कितना बदला है, एबीपी गंगा की

पीएम मोदी के गोद लिये गांव जयापुर का हाल क्या है। एबीपी गंगा ने एक रिपोर्ट तैयार की है। विकास कार्य नहीं हुए ऐसा नहीं कहा जा सकता लेकिन अभी भी स्वास्थ और पीने का पानी को लेकर काफी काम किया जाना बाकी है।